डी पी एस में राजस्थानी लोकगीत की मनोहारी प्रस्तुति

डी पी एस में राजस्थानी लोकगीत की मनोहारी प्रस्तुति

233
0
SHARE
डी पी एस में राजस्थानी लोकगीत की मनोहारी प्रस्तुति
डी पी एस में राजस्थानी लोकगीत की मनोहारी प्रस्तुति

ग्रेटर नोएडा। दिल्ली पब्लिक स्कूल का सभागार अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त उस्ताद रहमत ख़ान लंगा की प्रस्तुतियों से गुंजायमान हो उठा| रोचक शैली में प्रस्तुत उनके व्यावहारिक लोकगीतों ने विद्यार्थियों को मंत्र – मुग्ध कर दिया। उन्होंने सर्वप्रथम वंदना से वातावरण को भक्तिमय किया उसके उपरांत दैनिक जीवन पर आधारित लोकधुनों को बड़े ही सहज अंदाज़ में विद्यार्थियों को स्मरण करवा दिया| उनके गीतों के शब्द और धुन इतने प्रभावशाली और मोहक थे कि पूरा सभागार उन धुनों पर अपने आप झूम उठा| उन्होंने बड़ी ही कुशलता से राजस्थानी परंपरागत गीतों को फ़िल्मी शैली में प्रस्तुत कर सबका मन मोह लिया| इस अवसर पर विद्यालय प्रधानाचार्या श्रीमती रेणु चतुर्वेदी जी ने कहा कि ऐसे लोकसंगीत पर आधारित कार्यक्रम विद्यार्थियों को अपनी लोक संस्कृति से जोड़ते हैं और इन कलाओं के प्रति उनके मन में अनुराग जगाते हैं। अपने संबोधन में उस्ताद रहमत ख़ान लंगा ने बताया कि लोकगीतों के माध्यम से बच्चे संगीत के इतिहास से अवगत हो सकेंगे तथा अपनी संस्कृति के बारे में जान पाएँगे | उनका मानना है कि बालिकाएँ लोकगीतों के प्रति अधिक रुचि दिखाती हैं अत: इनके द्वारा उनमें शिक्षा और नैतिक मूल्यों का विकास किया जा सकता है| उनके साथ तबले पर अंतर्राष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त इशाक ख़ान, सारंगी पर हबीब ख़ानÊ करताली पर मौ रफ़ीक, गायन पर अनवर ख़ान,जलालुद्दीन खान,असलम खान,बरकत खान, अबाब खान आदि ने संगत की

Comments

comments

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY